ट्रू कॉलर से नाम हटाना किस तरह संभव हो सकता है

ट्रू कॉलर से नाम हटाना कोई बड़ी बात नहीं है. यह उन लोगों के लिए जरूरी भी ही जो अपना विवरण नहीं देना चाहते.

दरअसल ट्रू कॉलर एक ऐसा मोबाइल एप्प है जो किसी दूसरे की मोबाइल कांटेक्ट लिस्ट को हड़प कर उसे अपने डाटाबेस में रख लेता है, जो कि सार्वजनिक होती है.

यदि अपने किसी मोबाइल में ट्रू कॉलर एप्प इनस्टॉल हो और किसी अनजान नंबर से कॉल या मिस्ड-कॉल आ जाए तो ट्रू कॉलर के डाटाबेस में आ चुके उस कॉलर का नाम और बाकी विवरण जान सकते है.

लेकिन अनेक लोग नहीं चाहते कि उनके नंबर से जुड़ा नाम और डिटेल्स ट्रू कॉलर के पास हो. वे ट्रू कॉलर से नाम हटाना भी चाहते है. लेकिन पता नहीं है कि क्या करें.

आईये देखें कि ट्रू कॉलर से नाम हटाना कितना आसान है.

  • आपको जरूरत होगी उस नंबर की जिसे ट्रू कॉलर से नाम हटाना चाहते  हैं.
  • इंटरनेट से जुड़े मोबाइल या कंप्यूटर की

यदि आप ट्रू कॉलर का इस्तेमाल करते हैं और खुद का ही नाम हटाना चाहते हैं तो पहले आपको अपना अकाउंट डीएक्टिवेट करना होगा.

  1. ट्रू कॉलर की इस लिंक पर क्लिक करें
  2. हटाया जाने वाला नंबर, संबंधित देश के कोड सहित लिखें (जैसे भारत के लिए +91XXXXXXXXXX). लैंडलाइन फ़ोन नंबर है तो एसटीडी कोड वाला शून्य ना लगायें.
  3. यदि कोई फॉर्म कारण बताने को दिया जाए तो नंबर हटाने का कारण लिखें.
  4. I am not robot को चुनें. दिया जाने वाला कैप्चा सही सही भरें.
  5. एक बार फिर पूछा जाएगा कि ट्रू कॉलर से नाम हटाना है क्या?
  6. पुष्टि करता सन्देश दिखेगा कि 24 घंटे लग ही जायेंगे नाम नंबर हटाते

ट्रू कॉलर से नाम हटाना

 

वैसे तो ट्रू कॉलर का कहना है कि वह 24 घंटे के अंदर नंबर हटा देता है लेकिन सही उपाय यही होगा कि एकाध हफ्ते बाद किसी ट्रू कॉलर का उपयोग करने वाले से जांच कर ली जाए कि उस नंबर का विवरण दिखता है कि नहीं. अगर नहीं दिखता है तो समझिये कि आपका ट्रू कॉलर से नाम हटाना सफल हो गया. अगर दिखता है तो फिर से नंबर को हटाने की प्रक्रिया कर सकते हैं.

इन सबके बावजूद ऐसा नहीं कि वह नंबर जीवन भर के लिए हट ही गया. एक बार नंबर हटने के बाद हो सकता है उनके डाटाबेस में कभी किसी मोबाइल वाले की कांटेक्ट लिस्ट से नंबर, नाम सहित हड़प लिया जाए और फिर सारा विवरण दिखना शुरू हो जाए.

फोन की DND डू नॉट डिस्टर्ब स्थिति किस तरह जानें

फोन की DND डू नॉट डिस्टर्ब सेवा तब जरूरी हो जाती है जब अजनबी फोन नंबरों से हर दिन न जाने कितनी ही कॉल आती रहें. यह कॉल्स एक बार नहीं कई बार आती हैं.. ढेर सारी कंपनियां अपने उत्पादों और सेवाओं के बेचने के लिए कॉल करती ही हैं.

बेशक स्मार्टफोन में कई एप्प हैं कॉल या एस एम एस ब्लॉक करने के. लेकिन इंटरनेट नेटवर्क ना हो तो? स्मार्टफोन ना हो तो? लैंडलाइन हो तो?

अपने लैंडलाइन या मोबाइल पर मार्केटिंग कॉल आने से रोकने के सरकारी ठोस उपाय अपनाने से पहले सबसे ज़रूरी है यह जानना कि आपका फ़ोन नंबर डीएनडी -Do not Disturb में रजिस्टर है कि नहीं.

आपको जरूरत होगी:

  • दस अंक के उस नंबर की जिसकी स्थिति जांचना कहते हैं.
  • इन्टरनेट से जुड़े कंप्यूटर या मोबाइल की

फोन की DND डू नॉट डिस्टर्ब

आईये देखें कि यह स्टेटस कैसे देखा जाता है

  1. Telecom Commercial Communications Customer Preference portal के इस आधिकारिक लिंक पर क्लिक करें
  2. Phone Number के आगे दी गई खाली जगह में शून्य के बिना दस अंकों के मोबाइल नंबर या एसटीडी कोड सहित लैंडलाइन फोन नंबर डाल कर Search पर क्लिक करें.
  3. यदि फोन की DND डू नॉट डिस्टर्ब स्थिति रजिस्टर्ड वाली हुई तो Phone Number के साथ Status : Registered दिखेगा. साथ ही Activation Date में शुरू होने की तारीख , Service Area में उस फोन नंबर का राज्य, Service Provider में फोन कंपनी का नाम तथा Your Preference में दिखेगा कि फोन कॉल बंद करवाई गई है या एस एम एस या दोनों ही बंद करवाए गए हैं.
  4. अगर फोन की DND डू नॉट डिस्टर्ब स्थिति रजिस्टर्ड नहीं है तो बता दिया जाएगा कि रजिस्ट्रेशन नहीं है.

 

इन्टरनेट पर सैकड़ों वेबसाइट हैं जो फोन की DND डू नॉट डिस्टर्ब स्थिति बताने का दावा करती हैं. लेकिन सावधान रहिए! वे आपका फोन नंबर हड़पने के मायाजाल भर है.

ऊपर दिया गया तरीका आधिकारिक तरीका है फोन की DND डू नॉट डिस्टर्ब स्थिति जानने का.

एसबीआई एटीएम कार्ड का प्रबंधन, एंड्राइड एप्प के सहारे किस तरह करें

एटीएम कार्ड की धोखाधड़ी में एक बेहद आम तरीका है बैंक अधिकारी बनकर एटीएम के बारे में जानकारी ले कर  ऑनलाइन शॉपिंग के सहारे रकम निकाल लेना.

धोखाधड़ी करने वाले को महज चार चीजों की जरूरत होती है पहला एटीएम कार्ड का लम्बा चौड़ा नंबर, दूसरा उसकी एक्सपायरी डेट -वैध रहने की तारीख, तीसरा 4 अंकों वाला पिन नंबर और चौथा कार्ड के पीछे दिया गया 3 अंकों का सीवीवी नंबर!

PIN होता है Personal Identification Number और CVV होता है Card Verification Value

एसबीआई एटीएम कार्ड
वैसे अब एटीएम कार्ड आधुनिक तकनीकें अपना रहे हैं लेकिन एसबीआई एटीएम कार्ड के साथ धोखाधड़ी किया जाना अभी आसान बना हुआ है इसीलिए साइबर अपराधी इन पर नजरें गड़ाए रहते हैं.

तमाम जागरूकता के बावजूद इन ऑनलाइन अपराधियों के बात करने की स्टाइल से अच्छा खासा इंसान भी गलती कर ही बैठता है. अब तो अपनी सारी जानकारियाँ दे कर लुटने वालों में जज, डॉक्टर, सरकारी अधिकारी भी शामिल हैं.

आइये देखें कि स्टेट बैंक के ऑफिसियल एंड्राइड एप्प के सहारे एसबीआई एटीएम कार्ड फ्रॉड से बचने की कोशिश कैसे की जाए.

आपको जरूरत होगी:

इंस्टाल हुए एप्प को खोलें.

 

एसबीआई एटीएम कार्ड

एसबीआई एटीएम कार्ड

एसबीआई एटीएम कार्ड

एसबीआई एटीएम कार्ड

एसबीआई एटीएम कार्ड

 

  1. यदि आपने पहले कभी रजिस्ट्रेशन नहीं किया तो रजिस्ट्रेशन लिंक चुनें, Existing Anywhere/ INB User पर क्लिक करें (INB मतलब Internet Banking). अगली स्क्रीन में अपना इन्टरनेट बैंकिंग वाली यूजर आईडी और पासवर्ड दीजिये.
  2. I Accept the terms and condions को चुन कर Accept पर क्लिक करें
  3. आपका यूजर आईडी दिखेगा और एस एम एस  में आया एक्टिवेशन कोड खुद ही दिखना शुरू हो जाएगा. Submit पर क्लिक करें
  4. User activation succesful का सन्देश दिखेगा. OK पर क्लिक करें.
  5. रजिस्ट्रेशन हो चुका तो, Login में अपना इन्टरनेट वाला यूजर आईडी और पासवर्ड दे कर Login पर क्लिक करें
  6. आइकॉन समझाती स्क्रीन को क्लिक कर हटायें
  7. अगली स्क्रीन पर Services आइकॉन पर क्लिक करें
  8. Manage Debit Card को चुनें.
  9. Select Debit Account में अपना खाता चुनें.
  10. उस खाते से जुड़ा Debit Card चुनें.
  11. International Usage को तो Off ही कर दें. e-Commerce (CNP) txns को भी Off किया जा सकता है. यदि नहीं करना चाहते तो POS/ CNP New limit को इतना कम करें कि साइबर अपराधी आपको अधिक नुकसान ना पहुंचा पाए.

एसबीआई एटीएम कार्ड

इसी प्रकार, यदि आपका एसबीआई एटीएम कार्ड, परिवार का ही सदस्य इस्तेमाल कर रहा है तो ATM Limit रखी जा सकती है, जिससे वह आपकी सीमा से अधिक ना निकाल पाए या फिर Merchant (POS) txns Off रखा जा सकता है, सीमा तय की जा सकती है! जिससे कोई कार्ड स्वाइप कर खरीदारी ना कर सके/ ज्यादा खरीदारी ना कर सके!!

किसी कारण आप किसी जालसाज को सारी जानकारियाँ दे बैठे हैं तो इन उपायों को पहले से अपनाए रहने के कारण नुक्सान से बचा जा सकता है.

*** एसबीआई एटीएम कार्ड  के बारे में एसबीआई एप्प की यह एक संभावित प्रक्रिया है, कालांतर में इसमें फेरबदल भी हो सकता है.

1 2 3 4 11